UNCATEGORIZED

महान साम्राज्य टूट जाते हैं पर उनके विचार बच जाते हैं – :श्री महंत रवींद्र पुरी

1. मेरा धर्म है देश की सेवा करना। 2. प्रेमी, पागल और कवि एक ही तत्व से बनते हैं। 3. प्रेम हमेशा आदमी के चरित्र को ऊपर उठाता है, उसे कम नहीं करता। 4. मैं एक मानव हूं और जो कुछ भी मानवता को प्रभावित करता है, उससे मुझे मतलब है। 5. वो मुझे मार सकते हैं, लेकिन वो मेरे विचारों को नहीं मार सकते। वो मेरे शरीर को तो कुचल सकते हैं, मेरी आत्मा को नहीं। 6. मेरा जीवन एक महान लक्ष्य के प्रति समर्पित है- देश की आज़ादी। दुनिया की अन्य कोई आकर्षक वस्तु मुझे लुभा ही नहीं सकती। 7. बुराई इसलिए नहीं बढ़ रही है कि दुनिया में बुरे लोग बढ़ रहे हैं। बुराई इसलिए बढ़ रही है कि दुनिया में बुराई सहन करने वाले लोग बढ़ रहे हैं।

Close