UNCATEGORIZED

मोरा तारा ज्वेलर्स के मालिक से मांगी गई थी 50 लाख की फिरौती का खुलासा

26.07.2022 को रात्रि जब वह अपने ज्वैलर्री शोरूम मोरातारा से अपने घर स्कूटी से जा रहा था तो थोडी दूरी पर उसे दो युवकों द्वारा स्कूटी में तेजी से ओवर टेक किया गया व उसे अपने उपर फायर होना महसूस हुआ। उस समय उसने स्कूटी रोककर देखा सब कुछ सलामत होने पर कावडियों द्वारा साईलेन्सर से आवाज करना मानकर वह घर चला गया। रात को उसने अपना लैपटाप जो कि स्कूटी पर पैरों के बीच रखा था खोलकर देखा तो उसमें एक स्थान पर छेद के कारण लैपटाप टुटना पाया गया। अगले दिन दोपहर में उसने लैपटाप को मैकनिक को दिखाया तो मैकनिक द्वारा लैपटाप के अन्दर से .32 बोर की बुलेट निकालने पर उसे अपने उपर अज्ञात व्यक्ति द्वारा जानलेवा हमला करने का अहसास हुआ। तहरीर के आधार पर कोतवाली ज्वालापुर में मु0अ0सं0 415/22 धारा 307 भादवि पंजीकृत कर अभियोग की विवेचना प्रारम्भ की गयी। इसी बीच वादी को दिनांक 27.07.2022 को उसके मोबाईल फोन पर कुख्यात अपराधी सुनील राठी के नाम पर 50 लाख रूपये फिरोती की मांग करने व बार-2 फोन कर धमकाने व उन्हीं के द्वारा उसपर फायरिंग करवाने की बात से मामले की संवेदनशीलता अत्यधिक बढ गयी। विगत वर्ष वादी के शोरूम मोरातारा में हुयी डकैती की घटना की संवेदनशीलता को देखते हुये श्रीमान पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय हरिद्वार के निर्देशन व पुलिस अधीक्षक नगर हरिद्वार व सहा0पु0अ0 ज्वालापुर व क्षेत्राधिकारी ऑपरेशन के पर्यवेक्षण में घटना के अनावरण हेतु चार टीमों का गठन किया गया।

टीम प्रथम- प्रभारी निरीक्षक ज्वालापुर आर0के0 सकलानी को अनावरण हेतु गठित सभी टीमों में आपसी समन्वय व दबिश हेतु बाहर जाने पर पुलिस बल व लोजिस्टिक सुविधायें प्रदान करने के साथ-2 वादी के दोनो शोरूम व घर पर सुरक्षा व सर्तकता बरतने की जिम्मेदारी प्रदान की गयी। जिसके तहत वादी के घर व दोनों शोरूम पर सादी वर्दी में पुलिस बल दिन-रात तैनात किया गया व वादी से लगातार सम्पर्क रखकर अन्य टीमों को अपडेट किया गया।

टीम द्वितीय-प्रभारी निरीक्षक सीआईयू श्री नरेन्द्र सिंह बिष्ट के नेतृत्व में सीआईयू के कर्मचारियों को विवेचना में तकनीकी सहयोग व बाहरी राज्यों में दबिश देने हेतु थाना ज्वालापुर पुलिस व सीआईयू के कर्मचारियों का नेतृत्व करने की जिम्मेदारी सौंपी गयी।
टीम तृतीय- चैकी प्रभारी रेल उ0नि0 प्रवीण रावत को थाने के कर्मचारियों के साथ सीआईयू से समन्वय रखते हुये संदिग्धों के सम्भावित ठिकानों पर दबिश हेतु साथ रहने व पूर्व में उक्त शोरूम पर हुयी डकैती की घटना के आरोपियों से जेल में मिलने वालों व जमानत पर छुटे दो अपराधियों की वर्तमान स्थिति तस्दीक करने की जिम्मेदारी सौंपी गयी।
टीम चतुर्थ- कान्स0 61 प्रेम सिंह कान्स0 516 निर्मल सिंह थाना कनखल, कान्स0 47 जितेन्द्र कोत0नगर को घटनास्थल के आसपास लगे सरकारी व निजी सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से घटना में संलिप्त अपराधियों की आवाजाही चैक कर सुराग हासिल करने की जिम्मेदारी सौंपी गयी।

विवेचना के दौरान सभी टीमें व्हाट्सप गु्रप के माध्यम से आपस में जुड गये व अपने-2 द्वारा जुटायी गयी जानकारी को गु्रप में शेयर करना प्रारम्भ कर दिया जिससे घटना के सम्बन्ध में तेजी से जानकारी प्राप्त होने लगी। सीसीटीवी फुटेज की जाॅच के दौरान प्रथम दृष्टिया पाया गया कि वादी का पीछा स्कूटी सवार दो बदमाशों द्वारा रानीपुर मोड की ओर से आकर किया गया था जिनके मुंह पर रूमाल व मास्क लगे थे। सीसीटीवी टीम को इन स्कूटी सवारों के आने का सा्रेत तलाशने के निर्देश दिये गये। दिनांक 29.07.2022 को कान्स0 516 निर्मल द्वारा भगत सिंह चौक पर लगे कन्ट्रोम रूम के लगे सीसीटीवी केमरे को देखकर बताया गया कि उक्त स्कूटी सवारों में पीछे बैठा व्यक्ति यूके 07 एएल 1890 हुण्डई कार से उतरकर स्कूटी में बैठा था हुण्डई कार में तीन-चार अन्य व्यक्ति बैठे दिखायी दिये जिससे घटना में कम से कम 4-5 लोगों की संलिप्तता की पुष्टि हुयी। इस कार का रजिस्ट्रेशन नम्बर चैक करने पर पता चला की यह कार प्रदीप कुमार पुत्र सुरेश नि0 रावली महदूद बहादराबाद हरिद्वार के नाम पर रजिस्र्टड है। रजिस्ट्रेशन में दिये गये नम्बर की कॉल डिटेल व सर्विलांस सीआईयू द्वारा करने पर प्रदीप व उसके साथियों को ट्रेस कर लिया गया। जिनकी गिरफ्तारी हेतु सीआईयू व ज्वालापुर पुलिस द्वारा दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद, हिमाचल, बिजनौर में दबिशें दी गयी। मुख्य अभियुक्त प्रदीप कुमार को जब यह जानकारी हुयी कि वादी द्वारा पुलिस को रंगदारी माॅगने के सम्बन्ध में रिपोर्ट दर्ज करा दी गयी है तो वह बोखला गया और अपनी आपराधिक साख बचाने व वादी को सबक सिखाने के उद्देश्य से वह दिनांक 04.08.2022 को वादी के शोरूम बन्द करने के बाद उसे ठिकाने लगाने की नियत से अपने साथियों के साथ हरिद्वार आ रहा था कि इसी दौरान पुलिस को इसकी सूचना मिल गयी। और रानीपुर झाल के पास से प्रदीप कुमार व उसके साथियों को घटना में संलिप्त कार व अस्लाहों के साथ गिरफ्तार कर लिया।

Close